गर्लफ्रेंड की बहन ने मुझसे चूत मरवाई

kamukta, desi porn kahani

हेल्लो फ्रेंड्स मेरा नाम अनिल है और मैं नागपुर का रहने वाला हूँ | मैं दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ | आज जो कहानी मैं आप लोगो के लिए लेकर आया हूँ वो मेरी सच्ची कहानी है | मेरी उम्र 25 साल है और मैं दिखने में बहुत ही हैण्डसम हूँ | मुझसे लड़कियां बहुत जल्दी सेट हो जाती है | आज जो कहानी मैं आपके लिए लेकर आया हूँ वो मेरी पहली कहानी है मुझे आशा है की आपको पसंद आएगी | अब मैं आपका ज्यादा समय ना खराब करते हुए सीधे कहानी पर ले चलता हूँ |

मेरी रिया नाम की एक गर्लफ्रेंड है और वो नागपुर में ही अकेले रहती है और वही पढाई करती है | पर जो आज मैं कहानी लेकर आया हूँ वो मेरी गर्लफ्रेंड की बहन की है | एक दिन की बात है मैं अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने उसके रूम पर पहुंचा तो मैंने बेल बजाई तो एक लड़की ने आकर दरवाजा खोला मैं तो उसको देखता ही रहा गया क्या खूबसूरत लग रही थी | 32-30-34 का क्या मस्त फिगर था उसका | मैंने उससे कहा की रिया कहाँ है तो उसने कहा की दीदी तो कहीं बाहर गयी हुई हैं | मैंने उससे पूछा की आप कौन तो उसने बताया की मैं उसकी छोटी बहन हूँ | रिया ने अपनी बहन रितु के बारे में मुझे बताया था | मैंने उससे कहा की आपका नाम रितु है | उसने कहा अरे आप मेरा नाम कैसे जानते है | मैंने उसको बताया की तुम्हारी बहन ने तुम्हारे बारे में बताया था | फिर उसने मुझसे कहा की आप कहीं अनिल तो नहीं मैंने कहा हाँ मैं अनिल ही हूँ | उसने कहा ओह आप बहार क्यूँ खड़े है अन्दर आईये | मैं अन्दर जाकर सोफे पर बैठ गया वो भी आकर बैठ गयी हम दोनों बातें करने लगे | मैंने उससे पूछा की तुम मेरा नाम कैसे जानती हो | तो उसने बताया की मैं जानती हूँ की आप मेरे दीदी के बॉयफ्रेंड हैं दीदी ने आपके बारे में मुझे बताया था |

फिर उसने मुझसे कहा की आप बैठिये मैं आपके लिए चाय बनाकर लाती हूँ | मैंने उसको मना किया पर वो नहीं मानी और कहने लगी अरे मेरे हाँथ की चाय भी पी लीजिये इतनी बुरी नहीं बनाती हूँ | मैंने कहा चलो नहीं मानती हो तो बना लाओ | वो मेरे लिए चाय बनाकर लायी | हम दोनों ने चाय पी और मैंने उसकी चाय की तारीफ करते हुए कहा की तुम्हारी तरह तुम्हारी चाय भी बहुत अच्छी है | तो वो मुस्कुराते हुए कहने लगी की आप बातें बहुत अच्छी करते है | मैंने उससे पूछा की तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है | उसने कहा की मुझे आजतक कोई पसंद ही नहीं आया जिसे मैं अपना बॉयफ्रेंड बना सकू | मैंने उससे कहा अच्छा तुमको कैसा बॉयफ्रेंड चाहिए उसने मुस्कुराते हुए कहा की बिलकुल आप के जैसा | वो मुझपर लाइन मार रही थी वो मुझे कातिल निगाहों से देख रही थी | फिर हम दोनों ऐसे ही बातें करते रहे थोड़ी देर बाद रिया आ गयी | उसने आकर कहा की क्या बात चल रही तुम दोनों के बीच | मैंने कहा रिया तुम्हारी बहन को मेरे जैसा बॉयफ्रेंड चाहिए | उसने अपनी बहन को चिढाते हुए कहा सॉरी रितु पर अनिल सिर मेरा है | उसकी बात सुनकर हम तीनो हसने लगे | फिर मैं थोड़ी देर वहां रुका और फिर मैंने कहा अच्छा मैं अब चलता हूँ | मैं वहां से चला आया पर रितु मुझे घूरकर देख रही थी |

मैं समझ रहा था की वो सायद मुझसे चुदना चाहती थी | मैं भी उसकी चुदाई करना चाहता था | अगले दिन लगभग 9 बजे मेरे फोन पर नए नंबर से काल आई | मैंने कह हेल्लो कौन बोल रहा है तो उधर से किसी लड़की की आवाज आ रही थी उसने कहा पहचानो की मैं कौन बोल रही हूँ | मैंने कहा की सॉरी मैंने पहचाना नहीं उसने कहा अरे मैं रितु बोल रही हूँ | मैंने कहा सॉरी तुम्हारा नंबर नहीं था इसीलिए मैं नहीं पहचान नहीं पाया फिर मैंने कहा तुम्हे मेरा नंबर कहाँ से मिला | उसने बताया की दीदी से लिया था फिर उसने कहा की क्या आप मेरे घर आ सकते है | मैंने कहा क्या बात है उसने कहा पहले आप आईये तो फिर बताउंगी | मैंने कहा ठीक है मैं अभी आता हूँ | मैं उसके घर पहुंचा तो उसने आकर दरवाजा खोला क्या कमाल लग रही थी जींस-टॉप में | उसने अन्दर आने को कहा मैं जैसे ही घर में घुसा उसने दरवाजे बंद कर दिए | मैंने कहा की तुमने दरवाजा क्यूँ बंद किया और रिया कहाँ है  | उसने कहा दीदी कॉलेज गयी हुई है और फिर उसने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और मेरे होंठों पर किस करने लगी | मैंने उसको खुद से छुडाते हुए कहा की ये ठीक नहीं है तुम गलत कर रही हो मैं तुम्हारी बहन से प्यार करता हूँ | उसने कहा की अनिल मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ | मैंने कहा पर मैं तुम्हारी बहन को धोखा नहीं दे सकता | उसने कहा मैंने कब कहा है की तुम मेरी बहन को धोखा दो मैं तो बस कह रही हूँ तुम हम दोनों को प्यार करो |

मैंने कहा नहीं ऐसा नहीं हो सकता | तो उसने अपने टॉप को उतार कर फेंक दिया उसने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी | उसको देखकर मेरा संतुलन खोने लगा था | उसने मुझसे कहा की आखिर मुझमे क्या कमी है जो तुम मुझसे प्यार नहीं कर सकते | मैंने कहा की तुम ये क्या कर रही हो ये ठीक नहीं है | वो मेरे पास आ गयी और और मुझको अपनी बाँहों में भर लिया और मुझे चूमने लगी  | उसके बूब्स मेरी छाती पर रगड़ रहे थे | अब मैं भी कंट्रोल से बाहर होने लगा था | मैंने भी उसको अपनी बाँहों में भर लिया  और उसको किस करने लगा | मैं उसके बूब्स को मसल रहा था और उसको किस कर रहा था | फिर मैंने उसको अपनी गोद में उठा लिया और उसको बेडरूम में ले गया | वहां ले जाकर मैंने उसको बेड पर लिटा दिया और उसकी जींस को निकाल दिया | अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी | मैंने उसकी ब्रा को खोलकर उसके बूब्स को आजाद कर दिया | उसके बूब्स बहुत ही टाइट और मस्त थे | मैं उसकी चूचियों को मसलने लगा | वो गरम होने लगी थी मैंने उसकी पैंटी के भीतर अपना हाँथ डाल दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा | मैंने उसकी चूत में अपनी उँगली डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा | वो बहुत ही मादक आवाजे निकाल रही थी | उसकी चूत गीली हो चुकी थी और उसकी पैंटी भीग गयी थी | मैंने उसकी पैंटी निकाल दी और उसकी नाभि को चुमते हुए मैंने उसकी चूत पर अपना मुहँ रख दिया और उसकी चूत के दानो को अपनी जीभ से सहलाने लगा | वो मचल उठी वो मेरे सिर को अपनी चूत पर दबा रही थी और मैं उसकी चूत को चाटे जा रहा था | फिर उसने मुझे लिटा दिया और मेरे कपडे निकाल दिये और मेरे लंड को मेरी अंडरवियर से निकाल कर चूसने लगी | मुझे ऐसा लगा रहा था जैसे मैं जन्नत में पहुँच गया हूँ |

वो मेरे लंड को ऐसे चुसे जा रही थी जैसे वो लोलीपॉप को चूस रही हो | मुझे जोश आ गया था मैं उसके मुहँ को धीरे-धीरे चोदने लगा | मैंने उसके मुहँ को लगभग 20 मिनट तक चोदा उसके बाद मैं उसके मुहँ में ही झड गया | उसका पूरा मुहँ मेरे वीर्य से भर गया | वो मेरा सारा माल गटक गयी फिर उसने मेरे लंड को चाट-चाट कर साफ़ कर दिया | उसने मेरे लंड को चूस कर फिर खड़ा किया और अपनी चूत को छोड़ने को कहा मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा | उसने कहा अनिल अब मुझे मत तडपाओ डाल भी दो अपना लंड मेरी चूत में मुझ से रहा नहीं जा रहा | मैंने एक जोर का झटका लगाया और अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया | वो चीख पड़ी उसने कहा की आराम से करो मुझे दर्द हो रहा था | पर मैंने उसकी एक नहीं सुनी और मैं जोर-जोर से उसकी चूत को चोदने लगा | मैं उसकी चूत को चोदे जा रहा था और उसकी मुहँ से अह्ह्ह ओह्ह्ह येस्स चोदो मुझे और चोदो अह्ह्ह फाड़ दो मेरी चूत को अह्ह्ह ओह्ह आह्ह्ह की मादक आवाजे निकल रही थी | 15 मिनट की चुदाई के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा मैं समझ गया की वो झड़ने वाली है मैंने धक्के और तेज कर दिए और वो झड गयी | पर मैं उसको चोदता रहा और थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ने वाला था | मैंने अपना लंड मिकाल कर उसके मुहँ पर झड गया | उसने मेरा सारा माल पी लिया और मेरा लंड चूस कर साफ़ कर दिया | वो बहुत खुश थी मैंने उससे कहा की मैंने तुम्हारी इच्छा पूरी तो कर दी पर ये बात कभी भी रिया को नहीं पता चलनी चाहिए | उसके बाद मैं वहां से चला आया उस दिन के बाद मैंने उसकी कई बार चुदाई की और उसकी गांड भी मारी |